Thursday, October 17, 2013

रचना

-ओंम प्रकाश नौटियाल
उन आँखो मे कहाँ नूर कि जिनमे हया न हो ,
किस बात का गुरूर हो जब दिल में दया न हो,
छंद ,शिल्प से अलंकृत उस रचना में क्या पढें  
जिसमें भाव, अनुभव, विचार कुछ भी नया न हो!
-ओंम प्रकाश नौटियाल
 

1 comment:

  1. बहुत सुन्दर भाव रचना के लिए बधाई

    ReplyDelete