Wednesday, April 18, 2018

वक्त

किस का सदा अच्छा वक्त रहा
यह नरम तो कभी सख्त रहा
कई राजा आये चले गये
संग साथ कभी न तख्त गया
जब वक्त मिले बेरंगा जी
कहते चलिये सब चंगा जी !!
-ओम प्रकाश नौटियाल

सलाह !!

जल्दी जल्दी में अगर , करना पड़े विवाह
कर लें ए टी एम से , जाकर प्रथम सलाह !!
-ओम प्रकाश नौटियाल

Tuesday, April 17, 2018

ए टी एम

सर्दी में ठिठुरें कभी , धूप नहायें लोग
ए टी एम प्रताप से , सीख रहे है योग !
-ओंम प्रकाश नौटियाल

कहते रहिये

खड़ा दूर भविष्य झांक रहा
अपनी किस्मत को आँक रहा,
इस वर्तमान की पीड़ा पर
मोती आँसू के टाँक रहा,
खुश रहने का यह फन्ड़ा जी
कहते रहिये सब चंगा जी  !!
-ओम प्रकाश नौटियाल

Monday, April 16, 2018

सब चंगा जी !!!

क्या कहें देश के बारे में
सब बैठे हैं मन मारे से
था दिया जिन्हे दायित्व सौंप
रख रहे तभी सॆ लारे मॆं
किस किस का फोड़ें भंड़ा जी
कहते रहिये सब चंगा जी !!!
-ओंम प्रकाश नौटियाल

Wednesday, April 11, 2018

कानून पर यकीन !!

कुकर्मो पर उनके जब ,थी पुलिस  कर्महीन
तब से उनका बढ गया, कानून पर यकीन !!
-ओम प्रकाश नौटियाल

Saturday, April 7, 2018

अब अच्छा नही लगता

हर बात पर बवाल , अब अच्छा नही लगता
रहे देश बदहाल , अब अच्छा नही लगता
चलभाष थाम चलने मे है शान निराली
हो  हाथ में रुमाल,अब अच्छा नही लगता !!
-ओंम प्रकाश नौटियाल

Monday, April 2, 2018

बन बैठे सिरमौर !!

छंद छंद में घूम कर , शब्द ढूंढ़ते ठौर
दोहा जब उनको मिला, बन बैठे सिरमौर !!
-ओंम प्रकाश नौटियाल

Saturday, March 31, 2018

एप्रिल फूल !!

दिवस आज का मित्रवर , कूल बहुत ही कूल
समझकर अति गर्म इसे, बने न एप्रिल फूल !!
-ओंम प्रकाश नौटियाल

Thursday, March 29, 2018

पेपर लीक !!

सब क्षेत्रों की सुरक्षा, चूम रही जब पीक
बोर्ड़ के तब हो गये, दो दो पेपर लीक !!
-ओंम प्रकाश नौटियाल

Tuesday, March 27, 2018

दोहे गर्मी के

किरणे दिखलाने लगी , अपना रूप प्रचंड़
मौसम के आदेश पर , हमें दे रही दंड़  !!
 -ओंम प्रकाश नौटियल

Thursday, March 1, 2018

होली

‘प्लेट पकौड़े  संग में, हो गिलास में भंग
रंग होली का कर दे ,पुलकित हर इक अंग !!!

होली मय संसार है , क्या धरती क्या व्योम
रंग लगाने आ रहे  , चुपके छुपके  ’ओम’ !

-ओंम प्रकाश नौटियाल

Thursday, February 15, 2018

भ्रष्ट

भ्रष्ट बचे ना एक भी, बने देश खुशहाल
ढूंढ़ ढूंढ़ कर भ्रष्ट जन , दो मय माल निकाल !!
-ओंम प्रकाश नौटियाल

Sunday, January 21, 2018

डार्विन का सिद्धांत


बंदर रहे बहुत दुखी , बिगड़ गई औलाद
नाच नाच अब दे रहे, नई खोज को दाद !
-ऒंम प्रकाश नौटियाल
 

Monday, January 15, 2018

जनता की फरियाद

सालों तरसे न्याय को, जनता की फरियाद

सुलझे एक दिन में पर, अपने सभी विवाद !

-ओंम प्रकाश नौटियाल

Sunday, January 14, 2018

पतंग !

धरती पर लड़ती भला, किस किस से वह जंग

बैठ डोर पर उड़ चली , नभ की ओर पतंग !

-ओम प्रकाश नौटियाल

Friday, January 12, 2018

, न्याय

जनता के हर दर्द का, जिसके पास उपाय
दुखियों के सम्मुख वही, न्याय माँगता न्याय !

जिनको हम समझे सदा, दुख का मात्र उपाय
जनता के सम्मुख वही, न्याय माँगता न्याय !
-ओम प्रकाश नौटियाल
 

Tuesday, January 9, 2018

विश्व हिंदी दिवस

विश्व हिंदी दिवस की बधाई और हार्दिक शुभकामनाएं !!
-
विश्व हिंदी दिवस मने , दस को पहले मास
यही ध्येय कि हिंदी हो , जग में भाषा खास
भाषा जब अपनी नहीं , फिर कैसे स्वाधीन
निज भाषा को प्यार कर, हुआ कौन कब हीन !!
-ओंम प्रकाश नौटियाल

Thursday, January 4, 2018

दुख का अंत !!

दीन हीन का हाल यही , बस जीवन पर्यंत

बड़ा कष्ट आकर करे, छोटे दुख का अंत !!

-ओम प्रकाश नौटियाल

Wednesday, January 3, 2018

रोकी उसकी राह !

नव वर्ष मे पहले ही दिन , बाधित प्रेम प्रवाह

द्वंद द्वेष की आग ने, रोकी उसकी राह !

-ओम प्रकाश नौटियाल

Saturday, December 30, 2017

अलविदा २०१७

बंदी देखी मंदी देखी

उन्हें सुना बघारते शेखी

गत वर्ष रहा रीता रीता

दिन अच्छे तलाशते बीता

मिला कदम कदम अचंभा जी

बाकी तो सब कुछ चंगा जी !

-ओंम प्रकाश नौटियाल

-नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं

Wednesday, December 27, 2017

चंगा जी !

जिनकी चाहत बस ताली हो
जिह्वा उगले पर गाली हो
हर ओर है यह चिंता व्याप्त
क्या वही चमन का माली हो
क्या दिल्ली क्या दरभंगा जी
बाकी तो सब कुछ चंगा जी !
-ओम प्रकाश नौटियाल

Monday, December 25, 2017

कुछ सत्ता आसक्त !

भारत में भरपूर हैं ,भाँति भाँति के भक्त
क्रूर कराल कठोर कटु, कुछ कमसिन कमशक्त,
धर्म ध्वजी ध्याता ध्यानी धुनी धुरंधर कुछ
पूजक कुछ परमेष्ट के, कुछ सत्ता आसक्त !
-ओम प्रकाश नौटियाल
(पूर्व प्रकाशित -सर्वाधिकार सुरक्षित)

Wednesday, December 20, 2017

सोने चला विकास !

बहुत भाग दौड़ कर ली, बाँधी सबको आस
चूर चूर थक कर हुआ, सोने चला विकास !
ओंम प्रकाश नौटियाल

विकास

सभी उसको बुला रहे , दुविधा मध्य विकास
इक अकेली जान भला, किस के जाये पास !
ओंम प्रकाश नौटियाल

देश

हर किसी की चाह यही, बदले वह यह देश
अन्य किसी भी काम मे, ध्यान नहीं है लेश !
ओंम प्रकाश नौटियाल

Tuesday, December 19, 2017

लोग रहे अब

प्रमुख सब दलों के लिये , अच्छे यह परिणाम
एक्जिट पोल खूब  गिरे ,मुंह के बल धड़ाम !
-
एक्जिट पोल फेल हुए, अच्छा यह संकेत
इसका केवल अर्थ यह, लोग रहे अब चेत !
ओंम प्रकाश नौटियाल
(पूर्व प्रकाशित -सर्वाधिकार सुरक्षित )

Thursday, December 14, 2017

एक्जिट पोल

एक्जिट पोल खत्म करे, मतगणना आनंद
अंत कथा का जानना , पहले किसे पसंद ?
ओंम प्रकाश नौटियाल

Wednesday, December 13, 2017

धरती पर नहीं पाँव !

रहा घूमता नगर में, गया विकास न गाँव

प्लेन बना जल में खड़ा, धरती पर नहीं पाँव !

-ओंम प्रकाश नौटियाल

Tuesday, December 12, 2017

भोर की बात !

जिस नेता के पक्ष में, लड़े मित्र से रात ,
वह जा मिला विपक्ष में, अभी भोर की बात !
ओंम प्रकाश नौटियाल
(सर्वाधिकार सुरक्षित )

Sunday, December 10, 2017

शुद्ध हवा

हिमाचल की शुद्ध हवा ,साँस नहीं आसान
शीघ्र आउट हो तभी, चले छोड़ मैदान !

नगर के क्रिकेटर भला , लेते कैसे साँस
हिमाचल की शुद्ध हवा, आई उन्हें न रास !

आदत थी प्रदूषण की , हवा मिल गयी शुद्ध
छोड़ चले मैदान को, हुए क्रिकेटर  क्रुद्ध !
ओंम प्रकाश नौटियाल

Saturday, December 9, 2017

चुनावी खर्च

पैसा कितना हो गया , इस चुनाव में खर्च
गूगल भी ना कर सकी, अब तक इसको सर्च,
अब तक इसको सर्च, इस धन का स्त्रोत क्या था ?
काला अथवा श्वेत , पैसे का गोत्र क्या था ?
कहें ’ओंम ’ कविराय , दानी कौन है ऐसा ?
शीघ्र ही सूद संग,  वसूले   जो ना   पैसा !!
 -ओंम प्रकाश नौटियाल
( सर्वाधिकार सुरक्षित )

बेदाग औ’ सच्चे !!!



सच्चे सेवक की सुनो,एक यही पहचान

सत्ता पा संयत रहे, डिगे नहीं ईमान

डिगे नहीं ईमान, ना अहं का दास बने

जनजन को दे मान, उन्ही का बस खास बने

कहें ’ओंम’ कविराय, दिन आ सकेंगे अच्छे

लडेंगे जब चुनाव, बस बेदाग औ’ सच्चे !!!

-ओंम प्रकाश नौटियाल

बेदाग औ’ सच्चे !!!


सच्चे सेवक की सुनो,एक यही पहचान

सत्ता पा संयत रहे, डिगे नहीं ईमान

डिगे नहीं ईमान, ना अहं का दास बने

जनजन को दे मान, उन्ही का बस खास बने

कहें ’ओंम’ कविराय, दिन आ सकेंगे अच्छे

लडेंगे जब चुनाव, बस बेदाग औ’ सच्चे !!!

-ओंम प्रकाश नौटियाल

खिले हमेशा धूप !!

मित्रों सच्चे मीत की ,एक यही पहचान

पा सत्ता संयत रहे, डिगे नहीं ईमान

सच ही सच्चा मित्र है , ना बदले जो रूप

चलें यदि इसी राह पर, खिले हमेशा धूप !!

-ओंम प्रकाश नौटियाल

-

(पूर्व प्रकाशित - सर्वाधिकार सुरक्षित )

Friday, December 8, 2017

फैशन में गाली है

हर चीज में मिलावट सबकुछ ही जाली हैं

सियासत में आजकल फैशन में गाली है,

दिन में जिसे दिखाये हमेशा स्वप्न सुनहरे

उस जनता की नींदें अब सपनों से खाली हैं

-ओंम प्रकाश नौटियाल

( सर्वाधिकार सुरक्षित )

Wednesday, December 6, 2017

गुजारिश

भ्रष्ट कार्यो में जितने भी बहन भाई हैं लिप्त,
कृपया कुछ दिनों की खातिर कर दें स्थगित,
सी बी आई के पास है अधिक काम का बोझ,
नोच खसोट रोक कर जरा उनकी भी हो सोच।
-ओंम  प्रकाश नौटियाल
(पूर्व प्रकाशित -सर्वाधिकार सुरक्षित )

Monday, December 4, 2017

अलविदा प्रिय शशि कपूर जी !!

प्यार के मौसम में, उत्सव कन्यादान

प्रेम कहानी कलयुगी , धर्मपुत्र की शान ,

क्रोधी वक्त कभी कभी, ढह देता दीवार

शशि सम जो चमका रहा, छोड़ चला उस पार !!

-ओंम प्रकाश नौटियाल

Saturday, December 2, 2017

नेतन बन भगवान

आये उनके द्वार पर, नेतन बन भगवान
रोनी सूरत दुख सुने ,मुफ्त दिया वरदान
मुफ्त दिया वरदान, बिन जी एस टी वाला
माँग लिया बस वोट, रंग में अपने  ढाला
कहें "ओंम" कविराय , ढेर वादे भी लाये
करो दुआ वह दीन, न फिर झाँसे में आये !!
-ओंम प्रकाश नौटियाल


(सर्वाधिकार सुरक्षित  )

Thursday, November 30, 2017

प्याज

परत परत का तन लिये,खाये ऊँचा भाव
क्यों ना प्याज विचारता, सर पर खड़ा चुनाव !
-ओंम प्रकाश नौटियाल

Friday, November 24, 2017

पुत्र प्रमाद

सेवक पुत्र प्रमाद में, ऐसे हुए अधीर

टिकट उसे जब ना मिला, दिया कलेजा चीर !

-ओंम प्रकाश नौटियाल

Tuesday, November 21, 2017

धन पाना हो लक्ष्य

धन पाना हो लक्ष्य जब ,रहे, मिटे तब साख

निष्प्राण के दाम लगे ,अश्रु औ’ कई लाख !!

-ओंम प्रकाश नौटियाल

Monday, November 20, 2017

ट्‍वीट !

सर्दी के प्रारंभ में , पैदा हो कुछ हीट

उल्टी सीधी सोच को , कर दें जल्दी ट्‍वीट !

-ओंम प्रकाश नौटियाल

पाठ व्हाट्‍स एप का

झूठा सच्चा जो मिले, अर्जित कर लो ज्ञान

हो पाठ व्हाट्‍स एप का, बनो शीघ्र विद्वान !!

-ओंम प्रकाश नौटियाल

Saturday, November 18, 2017

मूड़ी जी ने कह दिया

मूड़ी जी ने कह दिया, हुआ मूड़ अब ठीक

अर्थ व्यवस्था स्वस्थ है, बंद हुई सब लीक !!

-ऒंम प्रकाश नौटियाल

Friday, November 17, 2017

मूड़ी रेटिंग

वित्त आंकड़ों से रही, साँसत में यह साँस

मूड़ी की रेटिंग से ,फिर बंधी है आस !

-ऒंम प्रकाश नौटियाल

पूजा कीजे ईश की

गलती सबसे हो सके,कौन यहाँ भगवान?

पूजा कीजे ईश की, मानब का सम्मान !

ओंम प्रकाश नौटियाल

Thursday, November 16, 2017

कठिन सबेर !

काला धन, काला धुँआ, काला मन अंधेर

काला पर कानून हो , तो फिर कठिन सबेर !

-ऒंम प्रकाश नौटियाल

Wednesday, November 15, 2017

स्वतंत्र चिंतन

अच्छे काम सराहिये ,हो बुरों का विरोध

स्वतंत्र चिंतन के करें, दूर सभी अवरोध!!

-ओंम प्रकाश नौटियाल

Monday, November 13, 2017

ट्रांसफर

सच्चाई जल्दी पहुँचे , हर कार्यालय द्वार

सत्यनिष्ठ की कीजिए ,बदली बारम्बार !!

ओंम प्रकाश नौटियाल

मस्त !

सांसद ,मंत्री अन्य सब,हैं चुनाव में व्यस्त

देश उसी तरह चल रहा,सुस्त,पस्त पर मस्त !

-ओंम प्रकाश नौटियाल

Sunday, November 12, 2017

शुद्ध हवा

"पतंजलि की शुद्ध हवा," यह भी हो उत्पाद

शीघ्र सभी को प्राप्त हो, प्रभु से यह फरियाद !!

-ओंम प्रकाश नौटियाल

Saturday, November 11, 2017

दुखी सब बादल

बादल सोचे देखकर , घना धरा का फाग

कौन घूमता है वहाँ , रचकर मेरा स्वाँग ?

रचकर मेरा स्वाँग ?, कुछ मैं देख ना पाऊँ

लगे सभी तो स्याम, किधर पानी बरसाऊँ

सभी छुप गये खेत, रहा मैं जिनका कायल

देख धरा का हाल , अत्यंत दुखी सब बादल

-ओंम प्रकाश नौटियाल

Friday, November 10, 2017

हवा

बच्चों का बचाव करें, खुद भी बचें जनाब

जमाने की न लग सके, ऐसी हवा खराब !

-ओंम प्रकाश नौटियाल

Wednesday, November 8, 2017

एकता सूत्र

वायु बहुत विषाक्त हुई , दिल्ली से लाहौर
विष एकता सूत्र बना , आया कैसा दौर !!
-ओंम प्रकाश नौटियाल

कालाधन

हारे यदि इस बार तो, फिर पाओगे तख्त

पर जाकर आता नहीं , कालाधन औ’ वक्त !!

-ओंम प्रकाश नौटियाल

Tuesday, November 7, 2017

सच्चे मुद्दे

जात,पाँत,हिंदु,मुस्लिम, पर मत धरिए ध्यान

शिक्षा, रोटी,वस्त्र, छत, सच्चे मुद्दे मान !!

-ओंम प्रकाश नौटियाल

हिलता तख्त !!!

नेताओं के पास भी, कितना खाली वक्त

रैली,भाषण माँगता , उनका हिलता तख्त !!!

-ओंम प्रकाश नौतियाल

Monday, November 6, 2017

रोड़ शो

मार्ग राज्यों  के सभी ,थे अब  तक  बेजोड़
रोड़ शो से बिगड़ गये,सह न सके वह लोड़ !
-ओंम प्रकाश नौटियाल

सभा, रोड़ शो, रैलियाँ

सभा, रोड़ शो, रैलियाँ , जायें करें प्रचार

वैसे भी बेकार हैं, समय खूब है यार ?

-ओंम प्रकाश नौटियाल

Friday, November 3, 2017

, जन सेवा

लाभ पद पर अगर नहीं , होता कहीं चुनाव

पैदा होना कठिन है , जन सेवा का चाव !

-ओंम प्रकाश नौटियाल

गैस

गुस्सा तनिक न कीजिए ,न ही खाइए तैश

प्रकृति ही जब बढना है, क्योंकर बढे न गैस !

-ओंम प्रकाश नौटियाल

Wednesday, November 1, 2017

जिंदगी

वय बढ़ी मतदान किया,, और सुनी तकरीर

भूख ,प्यास की मार से. फिर तज दिया शरीर !

-ऒंम प्रकाश नौटियाल

Sunday, October 29, 2017

, होगा देश महान !

व्हाट्‍स एप नित्य जितना , बाँट रहा है ज्ञान

दूर नहीं वह दिवस जब , होगा देश महान
-ऒंम प्रकाश नौटियाल

Friday, October 27, 2017

कौन बनेगा करोड़़ पति ?

बन सके वह करोड़पति ,जिसका ज्ञान विशिष्ट

या फिर घूस पचा सके, हो मृदु भाषी, शिष्ट !

-ओंम प्रकाश नौटियाल

लोकतंत्र

लोकतंत्र के मायने, उनकी हो सरकार

बलशाली नेता रहें, जिनके रिश्तेदार !

-ओंम प्रकाश नौटियाल

Thursday, October 26, 2017

पुश्तैनी घर

सभी इमारत का मुझे ,रटा हुआ इतिहास

पुश्तैनी घर पर बना ,किन पूर्वजों प्रयास?

-ओंम प्रकाश नौटियाल

वादा तेरा वादा

सत्त्ता चाहे लक्ष्य पर , धर सेवक अवतार

ऐसे वादे कीजिए , मुँह से टपके लार !!

-ओंम प्रकाश नौटियाल

Tuesday, October 24, 2017

ब्लाइँड़ खेल

ब्लाइँड़ खेल प्रकाश में, धन खोया अनमोल

जीवन की बाजी सदा, खेल आँख को खोल !

- ओंम प्रकाश नौटियाल

भ्रष्टाचार

भ्रष्टाचार करना यदि, पूरी तरह समाप्त

खबरें इसकी बंद हों , होगा यह पर्याप्त

होगा, यह पर्याप्त, यदि कोई नहीं माने

करे जेल की सैर ,सजा वह पक्की जाने

सब लोग करें ध्यान, बरतें यह शिष्टाचार

लिखें , पढ़ें ना लेख , लिए शब्द भ्रष्टाचार !!!

-ओंम प्रकाश नौटियाल

Saturday, October 21, 2017

छुट्टी पर अखबार

वड़ोदरा में आज भी, छुट्टी पर अखबार

नाश्ता फिर अब कीजिए,लेकर संग अचार !!

-ओंम प्रकाश नौटियाल

आई थी दीवाली

आई थी दीवाली और फिर आकर चली गई

नकली रोशनी से आस का अब भ्रम नहीं होता,

पंछी तो आज भी गगन मे निर्भीक उड़ते हैं

किसी दल का लहराता वहाँ परचम नही होता !!!!!

-ओंम प्रकाश नौटियाल

Friday, October 20, 2017

गोवर्धन पूजा

पर्वत पूजन का बने,यह भी एक विकल्प

पर्यावरण वहाँ बचे, करें आज संकल्प !!

-ओम प्रकाश नौटियाल

Wednesday, October 18, 2017

दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं !!!!

लीजे दिया कुम्हार से, बड़ी दुकानें त्याग

श्रम का जब दीपक जले,जगमग चमके भाग!!

ओंम प्रकाश नौटियाल

Tuesday, October 17, 2017

धन तेरस की हार्दिक शुभकामनाएं !!!

वैसे तो हर ब्रांड़ की ,चाय सभी को भाय,

जि एस ’टी’ के स्वाद पर ,क्या है लेकिन राय ?

-ओंम प्रकाश नौटियाल

Saturday, October 14, 2017

चुनाव

सब दलों की चिंता यह , आते पास चुनाव

देखें अब की मिल सके, वादों का क्या भाव !!

-ओंम प्रकाश नौटियाल

आज फिर एक अत्यंत दुःखद समाचार मिला !ॐ शान्ति शान्ति !!!! 14.10.2017

क्रूर काल के फिर चले, असमय ही विष दंत

एक जागृत जीवन का, हाय किया रे अंत !!

ओंम प्रकाश नौटियाल

शतरंज सी बिसात

बिछ गई फिर चुनाव की , शतरंज सी बिसात

सब चालों में शाह की , छुपी हुई शह मात !!!

-ओंम प्रकाश नौटियाल

Monday, October 2, 2017

नियति जन्य प्रहार

नियति जन्य प्रहार कभी, भीषण निर्मम क्रूर
हो जाते क्षण में  सभी , सपने चकना चूर !!!
-ओंम प्रकाश नौटियाल

Saturday, September 30, 2017

लौटे घर संतुष्ट !

खूब खिला पिला कर जो, दुष्ट बनाये पुष्ट

तज उनको मार नकली, लौटे घर संतुष्ट !

ओंम प्रकाश नौटियाल

Thursday, September 28, 2017

रीता पात्र

विशेषज्ञ सब लड़ रहे , लिए कर अर्थ शास्त्र
दीन तके असहाय सा, लेकर  रीता  पात्र !!
-ओंम प्रकाश नौटियाल

विकास

आम की न होगी, न ही खास की होगी

बबूल की होगी , ना पलाश की होगी

छोड़ कर सब चर्चा , जात पात ,धर्म की

अब बात देश में , बस विकास की होगी !!!

-ओंम प्रकाश नौटियाल

Wednesday, September 27, 2017

किस चिड़िया का नाम ?

अर्थ व्यवस्था क्या पता, किस चिड़िया का नाम ?

रोटी को दो वक्त की , हाथ माँगते काम !!

-ओंम प्रकाश नौटियाल

Tuesday, September 19, 2017

हिन्दी प्रेम

पखवाड़े भर चाँदनी , फिर उदास उल्लास
सच्चा हिन्दी प्रेम तो, नित्य करें अरदास !
-ओंम प्रकाश नौटियाल
(पूर्व प्रकाशित सर्वाधिकार सुरक्षित )

Monday, September 18, 2017

हिन्दी की दुकान

नकली कवि ने खोल ली, एक हिन्दी दुकान

हिन्दी सेवा हो सके , लिया खूब धन दान,

लिया खूब धन दान, क्षेत्र कई आजमाये

सीमित सा था ज्ञान, बने फिर भी सरमाये,

धन मिला और नाम,बजा हिंदी की ढपली

सच को पूछे कौन, फूलते , फलते नकली !!

-ओंम प्रकाश नौटियाल

(पूर्व प्रकाशित - सर्वाधिकार सुरक्षित )

Sunday, September 17, 2017

, शुक्ल शुक्ल सम पक्ष

हिन्दी का हर पक्ष हो, शुक्ल शुक्ल सम पक्ष

कोटि कोटि वासी बने , ज्ञानी ,हिन्दी दक्ष !

-ओंम प्रकाश नौटियाल

Wednesday, September 13, 2017

बुलैट गाड़ी

बुलैट गाड़ी बेचना, काम नहीं आसान

रोड़ रोड़ पर घूम कर, जान गया जापान !

-ओंम प्रकाश नौटियाल

Saturday, August 26, 2017

वर्षों भक्तों ने पढ़ा

वर्षों भक्तों ने पढ़ा  , क्या क्या स्याह सफेद
इम्तिहान की थी घड़ी , खुले तभी सब  भेद !
-ओंम प्रकाश नौटियाल

Friday, August 18, 2017

काला चंदा

चंदा लेते ब्लैक का ,जिसमें ’पता’ न  ’पैन’
औरों को समझा रहे, काला धन है बैन
काला धन है बैन , हिला दे अर्थ तंत्र को
हर दल की पर नींव, पोषती इसी यंत्र को
करना नष्ट समूल , स्याह धन का यदि धंधा
सर्व प्रथम हो बंद  , चुनावी काला चंदा  !!!
-ओंम प्रकाश नौटियाल
(पूर्व प्रकाशित-सर्वाधिकार सुरक्षित )

Saturday, August 12, 2017

मेरा भारत -कुछ दोहे

मेरा भारत -कुछ दोहे (मेरी पुस्तक "पीपल बिछोह में"  से उद्धत ) -ओम प्रकाश नौटियाल

Wednesday, August 9, 2017

मसखरे

राजनीति के मसखरे , बदलें पल पल रंग
धन, पद , कद जो दे सके, चले उसी के संग !
ओंम प्रकाश नौटियाल